आईपीएल 2019 का आगाज:- चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच होगा पहला मैच

CSK vs RCB
आईपीएल के बारहवें संस्करण का इंतजार सबको बेसब्री से था. आखिरकार विश्व क्रिकेट की सबसे बड़ी और बेहद ही लोकप्रिय क्रिकेट की लीग आईपीएल का आगाज 23 मार्च को होने जा रहा है.  इस प्रतिष्टित लीग में कुल 8 टीमें इस वर्ष की विजेता बनने के लिए अपने दाव पेच आजमाएगी.
आईपीएल का यह संस्करण कई मायनों में खास है. सबसे बड़ा कारण तो यह है कि ऐसा पहली बार हो रहा है, जब देश मे लोक सभा चुनाव हो रहे हैं, लेकिन फिर भी आईपीएल के आयोजन देश मे ही किया जा रहा है. इसके पहले 2009 और 2014 के समय लोकसभा चुनाव हुए थे, तब आईपीएल के आयोजन देश के बाहर किया गया था.
इस बेहद ही खास संस्करण को और भी खास बनाने वाला है आईपीएल के पहला मैच जो 23 मार्च को आईपीएल की दो दिग्गज टीम चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच होगा.
 क्रिकेट की दुनियां के दो धुरंधर खिलाड़ियों की कप्तानी में दोनों टीमें अपना पहला मैच जीतने की कोशिश करेगी. एक तरफ भारत के सबसे सफल कप्तान धोनी की टीम चेन्नई सुपर किंग्स है, जो इस बार अपना खिताब बचाने के लिए मैदान पर उतरेगी. तो वही दूसरी टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, भारत के वर्तमान कप्तान विराट कोहली की कप्तानी में आईपीएल का पहला खिताब जीतने के इरादे से मैदान में उतरेगी.
 कैसी है चेन्नई सुपर किंग्स की टीम.
महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स के आईपीएल में जलवे ही अलग है. इस टीम में पता नही ऐसा क्या खास है.यदि फ्लॉप खिलाड़ी भी यदि इस टीम से जुड़ जाए, तो वह भी अच्छा प्रदर्शन करने लग जाता है. इसका एक उदाहरण को अम्बाती रायडू है. अब यह चेन्नई की मैनेजमेंट का कमाल है या कप्तान धोनी का कमाल है जो हर खिलाड़ी से उसका बेहतर निकलवा ही लेते है. कारण कुछ भी हो, लेकिन यह बात चेन्नई को बाकी सारी टीमो से अलग बना देती है.
चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल के पिछले सीजन में दो साल के बैन के बाद वापसी कर रही थी. चेन्नई की टीम के बारे में यह भी कहा जाता था कि यह 30+ खिलाड़ियो की टीम है, जिसके हर खिलाड़ी की उम्र 30 वर्ष से ज्यादा है. लेकिन इस टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 2018 की आईपीएल चैंपियन बनी थी.
यदि इस टीम की मजबूती की की बात करें तो सबसे अच्छी बात इस टीम के लिए यह है कि इसके अधिकतर खिलाड़ी अनुभवी है, जिन्हें लीग मैच खेलने का भी अच्छा अनुभव है. ये खिलाड़ी हर परिस्थिति से मैच को निकालना अच्छी तरह से जानते है. टीम के पास शेन वाटसन, सुरेश रैना, अम्बाती रायडू, फाफ डु प्लेसिस, मुरली विजय जैसे अच्छे और अनुभवी बल्लेबाज है. तो तकनीकी रूप से तो मजबूत है ही. साथ ही तेजी से रन बनाने में भी माहिर हैं.
टीम के पास रविन्द्र जडेजा और केदार जाधव जैसे अच्छे आल राउंडर है, तो बल्ले और गेंद के साथ मैच जीतने में सक्षम है. केदार जाधव इस वक़्त काफी अच्छे फॉर्म में चल रहे हैं. बीते कुछ सीरीज में जाधव ने बहुत ही सराहनीय प्रदर्शन किया है. इनके अलावा शेन वाटसन, ड्वेन ब्रावो, मिचेल सेनेटर जैसे तेज गेंदबाजी करने वाले ऑल राउंडर भी हैं.
टीम की गेंदबाजी की बात की जाए तो स्पिन आक्रमण का जिम्मा इस बार भी हरभजन के कंधों पर रहने की पूरी संभावना है. इसके अलावा इमरान ताहिर को भी इस बार ज्यादा भूमिका दी जा सकती है. तेज गेंदबाजों में मोहित शर्मा को वापस चेन्नई ने खरीदा है. तेज गेंदबाजी का जिम्मा लुंगी नागिडी, मोहित शर्मा,  शार्दुल ठाकुर के हाथों में रहेगा.
वही टीम की सबसे बड़ी ताकत धोनी की चतुर कप्तानी और कीपिंग है. मैदान पर धोनी के निर्णय मैच के परिणाम को बहुत प्रभावित करते है. इस फॉरमेट के कुछ बेहद ही चतुर कप्तानों की बात करें तो धोनी उनमे से एक है.
कैसी है, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम.
बैगलोर की टीम को देखकर हर किसी की जुबान पर बस एक ही बात आती है, की दुनियाँ के सबसे बड़े स्टार खिलाड़ी इसी टीम में आ गए है.  एक वक्त पर टीम में विराट, गेल और डिविलियर्स जैसे दिग्गज बल्लेबाज थे, जो इस टीम की बल्लेबाजी को सबसे बेहतर बनाते रहे. लेकिन आज गेल के बिना भी विराट और डिविलियर्स के कारण बैगलोर की टीम की बल्लेबाजी बहुत मजबूत है.
इन दोनों के अलावा टीम में हेटमायर, हेनरी क्लासन और कॉलिन डीग्रांडहोमी जैसे अच्छे बल्लेबाज है. यह इस टीम का दुर्भाग्य ही है कि तीन बार फाइनल में पहुँचने के बावजूद भी काफी फाइनल नही जीत पाई है. लेकिन इस बार निश्चित तौर पर खिताब जीतने की पूरी कोशिश करेगी.
टीम की बल्लेबाजी तो ठीक है, लेकिन गेंदबाजी की तरफ देखे तो चहल को छोंड़कर कोई ऐसा गेंदबाज नजर नही आता है जो मैच जीतने का माद्दा रखता हो. यही इस टीम की एक कमजोर कड़ी है. यदि इस टीम की बल्लेबाजी में 200+ रन बनाने की छमता है, तो इसकी गेंदबाजी में 200 रन लूटाने की खामी है.
यदि इस टीम ने गेंदबाजी के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन किया तो यह भी खिताब जीतने की एक दावेदार के तौर पर सामने आ सकती है. यदि टीम का प्रदर्शन अच्छा रहता है तो एक कप्तान के तौर पर कोहली को भी अच्छा महसूस होगा, और यही आत्म विश्वास विश्व कप के दौरान काफी काम आएगा.
चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर में कौन है आगे?
चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच अब तक कुल 23 मैच खेले गए हैं, जिनमे से 15 मैच चेन्नई ने जीते, वही 7 मैच में बैंगलोर ने बाजी मारी. 1 मैच का कोई नतीजा नही आया. इतिहास निश्चित तौर पर चेन्नई के साथ है. चेन्नई के चेपाक स्टेडियम में भी पलड़ा चेन्नई का ही भारी रहेगा. अब यह देखना दिलचस्प होगा, कि कोहली के शेर किस तरह से धोनी के धुरंधर का सामना करेंगे. यह बात तो साफ है कि इस मैदान पर चेन्नई का ही पलड़ा भारी रहेगा.

Official Whatsapp Group

Join our Whatsapp group for FREE teams

About CricPick 982 Articles
I am Iman aka "Nonte 11" and I am the expert at CricPick. I give Dream11 team prediction on CricPick website, Android apps and Youtube channel. Download my Android App from https://bitly.com/FD11App